मेरे गांव की महिला

Minakshib
Posted October 12, 2020 from India
महिला के साथ कनेक्ट होकर सक्षक्तीकरण का काम कर रही हूं
कोवीड-19के साथ हम लढ रहे है
कोवीड-19के साथ हम लढ रहे है: महिला का सशक्तीकरण होना चाहिए (1/1)

मैं महाराष्ट्र (इंडिया)से एक गांव से बोल रही हूं गावं में आज की महिला के बारे में मैं बोलना चाहती हूं .मार्च से जैसे भी कोवीड -19आया है तबसे महिला की हालत बहुत ही खराब चल रही है  .क्योकी महिला को पहेलेही ज्यादा काम करना पडता है . उनके हक्क और अधिकार छीने जाते है आज तो घर मे एकही महिला काम कर रही है आदमी को रोजगार नहीं है तो मैं कुछ भी नहीं कर सकता ऐसा बोलकर ओ चुपचाप बैठ सकता है लेकीन हमारे महिला को ऐसा करना नहीं आता ओ तो सुबह उठती है तो घर का काम करना पडता है बाद में घर चलाने के लिये थोडा बहुत इधर उधर का काम करने जाती है थोडा बहुत पैसा जमा कर घर चलाती है और बाद मे पती की नशापाणी की तक्लीफ उठाती है  बच्चे की पढाई का भी खर्चा होता है .ऐसे में खुद का ख्याल नहीं रख सकती . बाद में शरीर साथ नहीं देता ऐसे होते हूवे भी आज कोवीड -19 के खिलाफ हमारी महिला लढ रही है.ये सब आज महिला के साथ जो हो रहा है वो बहुत ही अन्याय कारक है हमे आहे महान रोखना होगा क्योकी आज महिला 50%है और ओ सुरक्षित नहीं है हैल्थ के सारे मे समस्या है.ये सब रूकना चाहिए हमे मरी हुई महिला को और भी मायना ना चाहिए ऐसे मुझे लगता है.

This story was submitted in response to My Voice, Our Equal Future.

Comments 5

Log in or register to post comments
Jill Langhus
Oct 14
Oct 14

नमस्ते मिनाक्षी, प्रिय,

आप कैसे हैं? वो बेचारी औरतें। मुझे खुशी है कि आप उनके लिए वहां हैं। मुझे उम्मीद है कि हर कोई सुरक्षित और अच्छा होगा, और यह सब जल्द ही समाप्त हो जाएगा। बहुत प्यार XX

Minakshib
Oct 14
Oct 14

मैं अच्छी हूं और मेरे साथ और भी महिला है काम करने के लिये

Jill Langhus
Oct 14
Oct 14

सुन कर खुशी हुई। मुझे आशा है कि आप और आपका परिवार सुरक्षित हैं और अच्छी तरह से, शहद। आशा है कि आपके पास एक महान है, आपके सप्ताह के बाकी दिन! XX

Minakshib
Oct 14
Oct 14

हां है और आप सभी का सहयोग भी है

Jill Langhus
Oct 14
Oct 14

धन्यवाद! XX